ब्योहारी थाना प्रभारी श्री अनिल पटेल के चक्रव्यूह में फसे हत्यारे। ब्योहारी से डा तारा तिवारी,सी ई ओ फिजियो रिसर्च सेंटर

ब्योहारी थाना प्रभारी श्री अनिल पटेल के चक्रव्यूह में फसे हत्यारे। ब्योहारी से डा तारा तिवारी,सी ई ओ फिजियो रिसर्च सेंटर
बढते हुए क्राईम ग्राफ पर एस सी ओ ने चिंता जताई थी ,एवं ब्योहारी पुलिस प्रशासन के साथ अपराध शास्त्री डा प्रणय तिवारी के साथ इस विषय पर गोपनीय चर्चा भी चल रही थी,
जिसे देखते हुए ब्योहारी पुलिस प्रशासन से वार्ता कर अपराध शास्त्री व चिकित्सक डा प्रणय ने समस्या के शमन हेतु अपनी अपनी ,मन्त्रणा एवं सुझावो से अपराध पर नकेल कसने हेतु विचारो का आदान प्रदान किया।
तदनुसार ब्योहारी पुलिस द्वारा जिले के पुलिस अधीक्षक श्री सत्येंद्र शुक्ल जी को पहला केस दिया गया, कि ग्राम खरपा निवासी मंतलाल प्रजापति की अन्धी,संदेहास्पद मौत का पर्दाफाश करने हेतु पुलिस ने दिशा निर्देश का आग्रह किया।
क्या कहता है अपराध शास्त्र: यदि अपराध शास्त्र की बात करे तो यह कोई अतिशयोक्ति नहीं होगी,अपराध शास्त्र मे स्पष्ट लिखा हुआ है ,कि यदि 100 अपराधियो मे से किसी एक अपराधी को भी सलाखो के पीछे डाल दिया जाय तो अपराध जगत की नीद उड़ने लगती है ,अपराधी उसी एक का उदाहरण लेकर ,भयभीत होते रहते है।
और इसी चक्रव्यूह मे खरपा हत्याकांड के आरोपियो ,हत्यारो को अंदर आने दिया गया,ब्योहारी पुलिस के इस शमशान व्यूह को अपराधी समझ ना सके,और स्वयं ही फस गये।
जिन्हे नाम पूछना हो वो पुलिस से पूछे कोई भी अपराध शास्त्री,समाज का अहित नही चाहेगा ,इसलिये सभी को मनुष्य ही मानकर भारतीय दंड संहिता के अनुसार ही कार्य करेगा।
जिसमे अपराध शास्त्र मे शोध कर रहे डा प्रणय को अधययन मे सहयोग हेतु एक प्रोजेक्ट के रूप मे बुलवाया गया ।
पुलिस प्रशासन ने चूकि किसी अधययन रत व्यक्ति के बारे मे सोचा ,इसीसे स्पष्ट हो जाता है,कि देश भक्ति और जन सेवा हेतु ब्योहारी पुलिस प्रशासन गम्भीरता से कार्य कर रहा है।
अन्धी हत्या के खुलासे से,इस प्रकार की सोच रखने वाले अन्य पिशाचों के मस्तिष्क के पार्ट भी खुल गये है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *