बालक आश्रम पोडी़ के प्रभारी अधीक्षक का बड़ा कारनामा आया सामने सेवा पुस्तिका में संतान छुपाने का लगा आरोप का देखें लाइव वीडियो

बालक आश्रम पोडी़ के प्रभारी अधीक्षक का बड़ा कारनामा आया सामने सेवा पुस्तिका में संतान छुपाने का लगा आरोप का देखें लाइव वीडियो

क्या बालक आश्रम पोडी़ के प्रभारी अधीक्षक कमलेश्वर सिंह मरकाम ने जानबूझकर सेवा पुस्तिका में संतान की जानकारी छुपाने पर आदिवासी विकास विभाग के अधिकारियों की चुप्पी पर बड़ा सवाल को जन्म देती है

क्या आदिवासी विभाग के आयुक्त के संज्ञान में आया मामला…. फिर दबाने की कोशिश में लगे सहायक आयुक्त सिंगरौली

26 जनवरी 2001 के बाद तीसरी संतान शिक्षक को होती है तो सिविल सेवा आचरण नियम 1965 के उल्लंघन की श्रेणी में आता है

मध्य प्रदेश जिला सिंगरौली जी हां हम बात कर रहे हैं सिंगरौली जिले में बालक आश्रम पोड़ी में पदस्थ प्रभारी अधीक्षक कमलेश्वर सिंह मरकाम द्वारा दो शादियां की गई है ऐसा आरोप लिखित शिकायत जिला कलेक्टर से आश्रम पोड़ी के कर्मचारियों ने लगाया है शिकायतकर्ता द्वारा आरोप लगाया गया है कि पोडी़ आश्रम के प्रभारी अधीक्षक कमलेश्वर सिंह मरकाम ने दो शादियां की हैं प्रथम पत्नी सिंगरौली जिले के ग्राम कछरा निवास करती हैं एक संतान है दूसरी पत्नी महुआ गांव में निवास करती है तीन संताने हैं ऐसे हुए चार बच्चों के पिता हैं प्रभारी अधीक्षक पोड़ी कमलेश्वर सिंह मरकाम जोकि 26 जनवरी 2001 के बाद मध्यप्रदेश सामान्य प्रशासन विभाग द्वारा आदेश जारी किया गया था कि शिक्षक को 26 जनवरी 2001 के बाद तीसरी संतान पाए जाने पर सिविल सेवा आचरण नियम 1965 के उल्लंघन के श्रेणी में आता है यही नहीं प्रभारी अधीक्षक कमलेश्वर सिंह मरकाम द्वारा सेवा पुस्तिका में भी संतान की जानकारी छुपाई है ऐसे में आदिवासी आयुक्त विभाग भी संदेह के घेरे में आता दिखाई दे रहा है अब देखना यह होगा कि आदिवासी विभाग के आयुक्त इस मामले पर कार्यवाही करते हैं या फिर लीपापोती में लग जाएंगे जबकि सिंगरौली जिले में ऐसे कई शिक्षक की जानकारी मिल रही है कि सेवा पुस्तिका में संतान की जानकारी छुपाने एवं मध्यप्रदेश शासन को गुमराह किया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *