बदले सीधी विधायक केदारनाथ के तेवर , रिश्वत के आरोप में एक निलंबित ….

बदले सीधी विधायक केदारनाथ के तेवर , रिश्वत के आरोप में एक निलंबित ….

मध्य प्रदेश जिला सीधी बीजेपी विधायक केदारनाथ शुक्ल के तेवर इन दिनों बदले बदले दिखाई दे रहे हैं , पिछले तीन दशक की यादें एक वार फिर आज तरोताजा हो गई है , नगरपालिका परिषद सीधी और जिला सहकारी केन्द्रीय बैंक के मार्फत गरीबों , किसानों , बेरोजगारों के शोषण को लेकर वह इन दिनों वेहद नाराज हैं । नगरपालिका सीधी और केन्द्रीय बैंक में खुलेआम हो रही रिश्वतखोरी के मामले में वह आज जिला प्रशासन को आड़े हांथों लेते हुये कहा कि गरीबों के प्रति अन्याय अत्याचार शोषंण बर्दाश्त नही होगा । गरीबों के लिये वह किसी भी हद तक उतरने की हिदायत देते हुये स्पष्ट कर दिया है कि विधायक की कुर्सी के लिये मुहताज नही हूं ….? जनसेवा हमारे लिये सर्वोपरि है ।

बतादें कि वह आज मानस भवन में आयोजित पीएम स्ट्रीट वेंडर कार्यक्रम में वतौर मुख्य अतिथि मौजूद थे आत्मनिर्भर भारत बनाने के लिए सरकार द्वारा गुमटी और ठेला व्यापारियों को ₹10000 राशि का प्रमाण पत्र आज सीधी विधायक पंडित केदारनाथ शुक्ला ने प्रमाण पत्र वितरित किया । ठीक उसी दौरान गरीबों द्वारा सीधी विधायक से लोग रिश्वत मागने की फरियाद करने लगे तभी भड़के विधायक ने नगरपालिका के कर्मचारियों द्वारा शोंषण व पांच हजार की रिश्वत मांगे जाने के मामले पर दोषी कर्मचारी को सस्पेंड करने का फौरन आदेश दे दिये ।

आनन फानन में कलेक्टर रवीन्द्र चौधरी के निर्देश पर सीएमओ ने नगर पालिका में स्थाई कर्मी अनिल सिंह को निलंबित कर दिया अनिल सिंह को तत्काल निलंबित करने का कारण यह था कि नगर पालिका में गरीब संतोष भुंजवा विगत दिनों अनिल सिंह के पास गया था तो अनिल सिंह ने उससे हाथ का पंजा दिखाकर ₹5000 की माग की थी उपरोक्त शिकायत करने पर अनिल सिंह को तत्काल प्रभाव से निलम्बित कर नपा में अटैच कर दिया गया है ।

उल्खेनीय है कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह की तर्ज पर बदले सीधी विधायक पंडित केदारनाथ शुक्ल के तेवर से जिले के आला अधिकारियों में आज हड़कम्प मचा हुआ है , अगर जिले के आला अधिकारियों कर्मचारियों की आदतों व कार्यप्रणाली में सुधार नही हुआ तो आने वाले समय में जरूर जिले की राजनीति में भूचाल आयेगा ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *