झूठा हल्फनामा प्रस्तुत करना सीधी जिला पंचायत अध्यक्ष को पड़ सकता है मंहगा उच्च न्यायालय ने 7 दिवस में मांगा जबाव।

झूठा हल्फनामा प्रस्तुत करना सीधी जिला पंचायत अध्यक्ष को पड़ सकता है मंहगा उच्च न्यायालय ने 7 दिवस में मांगा जबाव।

म.प्र. जिला सीधी अन्तर्गत चुनाव के दौरान वर्तमान जिला पंचायत अध्यक्ष मड़वास राजवंश के वंशज अभ्युदय सिंह को झूठा हल्फनामा प्रस्तुत करने के मामले को म.प्र. उच्च न्यायालय जबलपुर ने गंभीरता से लिया है। राजबहादुर सिंह द्वारा दायर याचिका पर सुनवाई करते हुए उच्च न्यायालय ने वर्तमान जिला पंचायत अध्यक्ष और एक अन्य पक्षकार को नोटिस जारी किया है। और तीन सप्ताह के अंदर उपस्थित होकर जबाब प्रस्तुत करने को कहा है । प्रकरण के संबंध में बता दे कि वार्ड क्र. 10 मड़वास जिला पंचायत सदस्य का नामांकन दाखिल करने के दौरान अभ्युदय सिंह ने झूठा हल्फनामा प्रस्तुत किया था। जिसकी अपील प्रारंभिक तौर पर आयुक्त रीवा के यहां की गई थी जिसमें आयुक्त रीवा ने सुनवाई के दौरान गंभीर राजनैतिक दबाब के चलते अपील खारीज कर दी थी जिससे व्यतिथ होकर याचिका कर्ता ने उच्च न्यायालय में याचिका दायर की थी। जिस पर सुनवाई करते हुए म.प्र. उच्च न्यायालय ने नोटिस जारी कर तीन सप्ताह के अंदर तलब किया है। इसके और आगे बता दे कि जिला पंचायत अध्यक्ष बनते ही जिला पंचायत अध्यक्ष अभ्युदय सिंह पर सवालिया निशान पैदा होते रहे हैं। सत्ता पक्ष की सांसद को जिला पंचायत अध्यक्ष का बंगला समर्पित कर देने पर भी काॅफी बवाल हुआ था। संभवतः यह पहले जिला पंचायत अध्यक्ष होंगे जो जिला मुख्यालय में निवास न ले पाने के कारण गली-गली घूूॅमते रहे। जबकि बंगले को लेकर राजनैतिक दलों ने काफी हंगामा खड़ा किया था उसके बाद से लगातार फर्जी बाड़े का आरोप लगता रहा है। अभी 17 करोड़ 73 लाख रुपये की राशि वित्तीय अनियमितता का गंभीर आरोप लगा है जिसकी जाॅच लंबित है। आगे जो भी हो लेकिन फिलहाल जिला पंचायत वाले ‘राज’ की बात राज है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *