मध्य प्रदेश के 72 प्रतिशत विधायक करोड़पति, जानिये किस विधायक के पास कितनी संपत्ति …

मध्य प्रदेश के 72 प्रतिशत विधायक करोड़पति, जानिये किस विधायक के पास कितनी संपत्ति …

राहुल सिंह गहरवार प्रधान संपादक स्वतंत्र इंडिया लाइव सेवन

भोपाल| समाजसेवा के लिए राजनीति में कदम रखने वाले नेता अब खादीधारी नहीं रहे, समय के हिसाब से अब राजनीति के मायने भी बदल गए| राजनीति को अब कैरियर के रूप में देखा जाता है| जिसमे राजमहल से लेकर उद्योगपति घराने के लोग मैदान में दिखाई देते हैं| इतना ही नहीं राजनीति को विरासत के रूप में उपयोग किया जाता रहा है| मध्य प्रदेश की बात करें तो यहां करोड़पति विधायकों की संख्या बढ़ती ही जा रही है| प्रदेश 230 विधायकों में से 72 प्रतिशत विधायक करोड़पति हैं|

14 वीं विधानसभा में करोड़पति विधायकों की संख्या दोगुनी हो गई है| पिछली विधानसभा (2008) में महज 38 प्रतिशत विधायक ही करोड़पति थे। मध्यप्रदेश इलेक्शन वाच और एसोसिएशन फार डेमोक्रेटिक रिफार्मस (एडीआर) ने वर्तमान विधानसभा के 230 करोडपति विधायकों में से 225 विधायकों की शपथ पत्र में घोषित संपत्ति का विश्लेषण किया है| तकनीकी कारणों से 5 विधायकों के शपथ पत्रों का विश्लेषण नहीं किया गया| ये विधायक हैं, रणजीत सिंह गुणवान, मालिनी गौड़, भूपेंद्र सिंह, जयवर्धन सिंह, नीलम मिश्रा| मप्र इलेक्शन वॉच की रिपोर्ट के मुताबिक मप्र के हर विधायक के पास औसतन सवा पांच करोड़ रुपए की संपत्ति है, जबकि 2008 में चुने गए विधायकों की औसत संपत्ति करीब डेढ़ करोड़ रुपए थी। रिपोर्ट के मुताबिक प्रदेश के 72 प्रतिशत विधायक करोड़पति हैं।

*34 प्रतिशत बढे करोड़पति विधायक*

रिपोर्ट के मुताबिक 2008 के मुकाबले 2013 में मप्र विधानसभा में करोड़पति विधायकों की संख्या 34 प्रतिशत बढ़ गई। 2008 में सिर्फ 84 विधायक करोड़पति थे, जबकि 2013 की विधानसभा में 161 विधायक करोड़पति हैं। संपत्ति के मामले में भाजपा और कांग्रेस के विधायकों की स्थिति लगभग एक जैसी है। भाजपा के प्रत्येक विधायकों की औसतन संपत्ति करीब साढ़े पांच करोड़ है तो कांग्रेस के विधायकों की औसत संपत्ति पांच करोड़ रुपए है।

*भाजपा के 118 विधायक करोड़पति*

रिपोर्ट के मुताबिक भाजपा के 162 विधायकों में से 118 (73 प्रतिशत) विधायक करोड़पति हैं। वहीं कांग्रेस के 56 विधायकों में 40 (71 प्रतिशत) विधायक करोड़पति हैं। निर्दलीय 3 विधायकों में से 2 विधायक करोडपति हैं, वहीं बीएसपी के 4 विधायकों में से 1 विधायक करोडपति हैं| वहीं भाजपा में प्रति विधायक औसत संपत्ति 5.37 करोड़ रुपए है। वहीं कांग्रेस में प्रति विधायक औसत संपत्ति 4.95 करोड़ रुपए है। बसपा विधायकों की औसत संपत्ति 3.22 करोड़ रुपए है।

*संजय पाठक सबसे अमीर, पटवा भी दौलतमंद*

सर्वाधिक घोषित संपत्ति वाले मुख्य 3 विधायकों में विजयराघवगढ़ से भाजपा विधायक संजय पाठक (141 करोड़ रु.), रतलाम सिटी से भाजपा विधायक चेतन कश्यप (120 करोड़ रु.) तथा तेंदूखेड़ा से भाजपा विधायक संजय शर्मा (65 करोड़ रु.), पिछोर से कांग्रेस विधायक के पी सिंह कक्काजू (60 करोड़), भोजपुर से भजपा विधायक सुरेन्द्र पटवा (38 करोड़) शामिल हैं।

*सबसे कम संपत्ति ऊषा ठाकुर की*

रिपोर्ट के मुताबिक सबसे कम संपत्ति वाले विधायकों में इंदौर-3 विधानसभा क्षेत्र से भाजपा विधायक ऊषा ठाकुर (दीदी) ने सबसे कम संपत्ति (1.38 लाख रुपए) की घोषणा की है। वहीं झाबुआ से भाजपा विधायक शांतिलाल भिलवाल ने 4.88 लाख रुपए व जतारा से कांग्रेस विधायक दिनेश अहिरवार ने 6.02 लाख रुपए, गुना से भाजपा विधायक पन्ना लाल शाक्य (10 लाख) और रायगाँव से बीएसपी विधायक उषा (12 लाख) की संपत्ति की घोषणा की है।

*सर्वाधिक देनदारी वाले विधायक*

कुल 21 विधायकों ने एक करोड़ रुपए या उससे ज्यादा की देनदारी की घोषणा की है। सर्वाधिक देनदारी घोषित करने वाले विधायकों में विजयराघवगढ़ से भाजपा विधायक संजय पाठक (58 करोड़ रुपए), भोजपुर से भाजपा विधायक सुरेंद्र पटवा (34 करोड़ रुपए) तथा उज्जैन दक्षिण से भाजपा विधायक डॉ. मोहन यादव (5 करोड़ रुपए) शामिल हैं।

*यह आंकड़ें भी रोचक*

-पैन की घोषणा: कुल 19 विधायक ऐसे हैं जिन्होंने अपने परमानेंट अकाउंट नंबर (पैन) का ब्यौरा नहीं दिया है। इसमें से 5 विधायक ऐसे है जिन्होंने उनकी संपत्ति करोड़ों में बताई पर पैन कार्ड की घोषणा नहीं की |

-आयकर नहीं जमा करने वाले विधायकः कुल 54 (24 प्रतिशत) विधायकों ने घोषणा की है कि उन्होंने अपने आयकर रिटर्न नहीं जमा किए हैं।

-सर्वाधिक आय घोषित करने वाले विधायकः विजयराघवगढ़ से भाजपा विधायक संजय पाठक ने सर्वाधिक 8 करोड़ रुपयों की आय की घोषणा की है। वहीं तेंदूखेड़ा से भाजपा विधायक संजय शर्मा ने 3 करोड़ रुपए तथा दमोह से भाजपा विधायक जयंत मलैया ने 88 लाख रुपए आय की घोषणा की है|

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *