झोलाछाप डॉक्टरों की लापरवाही से लोगों का जीवन संकट में है।

झोलाछाप डॉक्टरों की लापरवाही से लोगों का जीवन संकट में है।

बिहार फर्जी जांच अवैध दवाई नर्स मालामाल जिला प्रशासन मौन, झोलाछाप डॉक्टर हर गली कुचो से लेकर चौराहों तक बिना डिग्री के डॉक्टरों की दुकाने संचालित हो रही है जो कि मरीजों की जिंदगी से खिलवाड़ कर रहे हैं साथ ही जानवरों की तरह इलाज कर रहें है जो कि बिना डिग्री से अवैध जांच कर रहा है । यह लोग गलत रिपोर्ट निकालकर मरीजों को सही इलाज नहीं दे पा रहे है। थोड़ी जानकारी लेकर इधर उधर जांच केंद्र खोल मरीजों का खून चूस रहे हैं और इनकी कमीशन झोलाछाप डॉक्टरों से बनी रहती है । कुछ दुकानदार अवैध ढंग से दवा का भी बिक्री कर रहा है जो अवैध दाई व नर्स से सेटिंग कर गुप्त रूप से गली कूचे में भ्रूण हत्या करते फिरते हैं और इनके दलाल आगे पीछे घूमते रहते हैं और इनका कमीशन बंधा रहता है ज्यादातर जिले के नरकटियागंज बगहा, लौरिया, रामनगर, गौनाहा में खुलेआम एवं बेखौफ चल रहा है, मगर इस पर जिला प्रशासन मौन है । मरीजों की जिंदगी से ये चंद लोग खिलवाड़ कर रहे हैं जिला प्रशासन चुप्पी साधे देख रही है ऐसे में निजी संचालकों की चांदी ही चांदी है बिना डिग्री के चीर फार कर रहे हैं अपने आप को एमबीबीएस सिविल सर्जन बता रहे हैं । यह नरकटियागंज में ही नहीं पूरे चंपारण में खुलेआम धंधा जोरों पर है । इन मौत के सौदागरों पर लगाम लगाने में चिकित्सा विभाग विफल दिख रहा है जबकि जिले के सिविल सर्जन को पता नहीं है कि उनके जिले में कितने निजी चिकित्सा केंद्र हैं कितने निजी जांच घर हैं कुछ लोग तो हद कर देते हैं अवैध दाई व नर्सो के द्वारा सच्चाई से अवगत करने वाले पत्रकारों को धमकाने उनके ऊपर झूठे मुकदमों में फंसाने का आरोप लगाती हैं, इनके पीछे दलाल का हाथ रहता है क्योंकि इनका कहीं पोल ना खुल जाए इसमें देखना है जिला प्रशासन क्या कर रही है गांव से भोले भाले मरीजों को फंसा कर अधिक से अधिक रुपया ऐंठने का कार्य में यह दलाल व अवैध नर्स , दाई माहिर है। यहां तक अपने घरों पर बुलाकर मोटी रकम लेकर भ्रूण हत्या जैसा घिनौना कार्य करने में थोड़ी सी भी संकोच नहीं है । मरीज मरे तो मरे अपने को क्या जेब तो गर्म हो रहीं है। मगर प्रशासन देखते हुए भी क्यों मौन है, यह तो प्रशासन ही जाने सुबह से लेकर शाम तक सरकारी अस्पताल की अगल बगल में यह दलाल घूमते फिरते नजर आएंगे यह पूरे जितने सरकारी अस्पताल हैं उसके अगल बगल में यह अवैध गोरखधंधा खुलेआम चल रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *