*क्या ये वही केदार हैं। जो सीधी की निम्न समस्याओं पर बीते 10 साल मौन रहे* ————————————- *जवाब दें फिर मांगे वोट* — *रोहित मिश्रा*—

*क्या ये वही केदार हैं। जो सीधी की निम्न समस्याओं पर बीते 10 साल मौन रहे* ————————————- *जवाब दें फिर मांगे वोट* — *रोहित मिश्रा*—

【1】 *सीधी जिला न्यायालय परिशर में घुशकर समाज के सबसे बौद्धिक तबका अधिवक्ताओं की पुलिस द्वारा बेरहम पिटाई और कई दिनों तक न्याय की गुहार लगा रहे अधिवक्ताओं के पक्ष में एक बयान तक नहीं जारी किए। क्यों?

【2】 कर्ज से डूबे जमोडी के एक कृषक द्वारा आत्महत्या मामले में पूरी मौन रहे उन्हें सरकार ने कोई राहत राशि नहीं दिया क्यों?

【3】 सत्ता में आते ही सीधी की विधि महाविद्यालय बंद करवा दिए क्यों?

【4】 सीधी में इंजीनियरिंग ,मेडिकल की पढ़ाई महज एक सपना रह गई घोषणा मशीन आयी और अपना काम करके चली गयी क्यों?

【5】 संजय गांधी कालेज को उकृष्ट महाविद्यालय का दर्जा वाली घोषणा महज एक छलावा साबित हुआ आज तक पूरी नहीं हुई। क्यों?

【6】 टीना टप्पर की गुणवत्ताविहीन प्रतीक्षालय के नाम पर करोड़ो का घोटाला आरोप पर मौन रहे क्यों?

【7】 जिला चिकित्सालय में गरीब दम तोड़ रहा है। चिकित्सा का अच्छा खाशा अभाव है। ऑपरेशन थियेटर बंद है। लोग जमीन में लेट कर दवाई करवाने को मजबूर हैं। क्यों?

【8】 गांवों में प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र के ताले पूरे वर्ष भर नहीं खुलते क्यों?

【9】 चाइना का स्मार्ट फोन देकर उच्च शिक्षा ले रहे छात्रों के साथ एक भद्दा मजाक किया क्यों?

【10】 अब तक जिले में कोई उद्योग धंधे नहीं लगे जिससे गरीबों को रोजगार मिल सके क्यों?

【11】 गरीबी रेखा से कई गरीबों का नाम हटवाया क्यों?

【12】 जिनके घर गरीब जाता है तो पूंछते हैं। वोट नहीं दिए तो काम नहीं करूंगा,फटी लंगोट वाला गरीब बात करने से डरता है क्यों?

【13】 भाजपा में योग्य नेताओं के होते हुए भी वंशवाद को बढ़ाया क्यों?

【14】 चुनाव एक जाति को दूसरे जाति के विरुद्ध खड़ा करके लड़ते हैं। चुनावी समय मे विकास की बात नहीं करते क्यों?

【15】 जिस जाति का नेता बनकर सत्ता में आते हैं। उसका एक उदाहरण बता दें जो इनके रहमोकदम में रहकर बड़ा ठेकेदार बना हो,बड़ा नेता बना हो,बड़ा बिजनेसमैन बना हो,गरीब की लड़की की शादी में पैसे दिए हैं। बल्कि जो इनके समर्थक थे वो आज मुख्यधारा से विलुप्त हो गए, और अब चुनाव आया तो वीडियो बनबाने लगे क्यों?

【16】 सीधी के विकास रोजगार,शिक्षा, स्वास्थ्य के संबंध में एकबार भी विधानसभा में नहीं बोले क्यों?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *