थाना प्रभारी जमोडी़ सरोज शर्मा षडयंत्र का हुए शिकार

थाना प्रभारी जमोडी़ सरोज शर्मा षडयंत्र का हुए शिकार

क्या थाना प्रभारी जमोड़ी को रीवा लोकायुक्त ने बनाया षडयंत्र का शिकार

मध्य प्रदेश जिला सीधी फरियादी सुनील कुमार रावत उम्र 20 वर्ष निवासी संजय कालेज सीधी के द्वारा मारपीट कर मोबाइल लूटने के संबंध में दो अज्ञात व्यक्तियों के विरुद्ध रिपोर्ट दर्ज कराया था इसी दौरान i20 कार में i20 कार से अमरवाह हवाई पट्टी में लड़के विवाद कर रहे थे जब की सूचना पर जमोडी़ पुलिस जाकर पुलिस ने विवाद को शांत कराया तथा पुलिस को देख कर लड़के भाग गए थे वहां से एक i20 कार व अपराधियों के मोटरसाइकिल को जमोडी़ थाना लाया गया था जिन पर कार्यवाही की गई थी i20 कार में फरियादी से लूटा गया मोबाइल मिला था जिसकी पूंछताछ सौरभ सिंह उर्फ गेसू सिंह पिता अनंत सिंह परिहार उम्र करीब 18 वर्ष निवासी ग्राम बरारी का बताया था कि वह अपने साथी हिमांशु सिंह बघेल के साथ लूटपाट किया है। उसके मूल्यों के आधार पर विवेचना अधिकारी एस आई चंदन पांडे द्वारा आरोपियों को गिरफ्तार किया गया था तथा न्यायालय भेजा गया था आरोपी सौरव का पिता बलवंत सिंह परिहार गिरफ्तारी के पहले काफी राजनीतिक व अन्य दबाव देकर अपने लड़के को छुड़ाने का प्रयास किया किंतु उसका लड़का उस लड़के के विरुद्ध अपराध होने से लूट के प्रकार किया गया इसके पिता द्वारा अपने मित्र के माध्यम से ₹70000 देकर अपने बच्चों को छुड़ाने का प्रयास किया गया था किंतु असफल नहीं हुआ तब जिस दिन सौरभ को न्यायालय भेजा था मीडिया के कई लोगों के सामने थाने में ही हंगामा कर रहा था जिसकी जानकारी मीडिया के कुछ मित्रों को है आरोपी सौरव सिंह का पिता रमन सिंह अपने मंसूबे में कामयाब नहीं हुआ तो वह अन्य लोगों के साथ मिलकर षड्यंत्र करके योजनाबद्ध तरीके से झूठी वॉइस रिकॉर्डिंग तैयार करके मेरे खिलाफ लोकायुक्त में शिकायत की गई यदि पुलिस को पैसे ही लेने होते तो अनंत सिंह के से पैसा लेकर उसके बच्चे को छोड़ दिया जाता है किंतु पुलिस ने निडर होकर अपने कर्तव्य का पालन किया इसी कारण वह नाराज होकर अरविंद अपने भतीजे आदित्य धनराज सिंह के द्वारा षड्यंत्र रच के झूठी शिकायत कराई गई आज जब मैं स्ट्रांग रूम की ड्यूटी पर था तब मुझे पता चला कि लोकायुक्त की टीम नजदीकी जमोडी़ थाने में छापा मार दिया है इसके पहले आरोपी के पिता सिंह काका भतीजा अर्थात सौरभ सिंह का भाई थाने में जाकर मुंशी को पैसे देने का भी प्रयास किया किंतु जब सफल नहीं हुआ तो लोकायुक्त टीम के साथ थाने में आकर यदि उसके लड़के को छोड़ दिया जाता स्थापना के दौरान अपराधियों के ऊपर चाहे वह मारपीट करने वाले हो लूट करने वाले हो चोरी करने वाले हो और कोरेक्स बेचने वाले हो बालू चोरी करने वाले हो सब के विरुद्ध प्रभावी कार्रवाई की गई और क्षेत्र में अमन शांति तैयार की गई गई इसी कारण अपराधी तत्व नाराज होकर योजनाबद्ध तरीके से चर्चा की गई जिस के संबंध में विचार करने वाली बातें है की लूट के मामले की विवेचना की गई और ना ही आरोपी गिरफ्तार किया गया आरोपी के कार को भी न्यायालय में पेश कि जा चुकी है धनराज से बचाने के लिए मांग की जा रही थी क्योंकि उसका भतीजा है इस हालत में उसे बचाने का कोई नहीं था आदित्य धनराज का पिता दिनांक 3, 4, 2019 को ही धमकी दिया था कि मैं देख लूंगा यदि उससे पैसे से मांग की गई होती तत्काल उसी समय रिपोर्ट शिकायतकर्ता और अन्य कार्रवाई करवाते किंतु काफी समय व्यतीत होने के बाद योजनाबद्ध तरीके से झूठी शिकायत पूर्वक की गई है अपराधियों के मन में यह बात आ गई थी की थाना प्रभारी सरोज शर्मा के रहते न तो लूटपाट हो पाएगी और नहीं चोरी घटना को पाएंगे ऐसी स्थिति में उन्हें हटाया जाना उचित होगा पूर्व भी सुनने को आया था कि कुछ प्रभाव लोग मुझे हटाना चाहते हैं किंतु अपने उपाय किंतु वे सफल नहीं हो पाए लुकास कर लोकायुक्त की कार्यवाही के पूर्व आरोपी का भाई आदित्य राज जब थाने में गया और थाने में मैं नहीं मिला तो थाने के अन्य कर्मचारी को फसाने को उद्देश से उसके पास पैसे देने का प्रयास किया किंतु जब वह सफल नहीं हुआ अब कार्रवाई की गई इसी तरह से यदि मैं थाने में उपस्थित होता उसके द्वारा पैसे किंतु उसके द्वारा मेरे सामने फेंक कर जबरन मुझे फसाया जाता यदि थाना प्रभारी सरोज शर्मा द्वारा पैसे की मांग की गई थी तो अन्य स्टाफ को पैसे देने के क्या उचित है अन्य स्टाफ को पैसे देने का जो असफल प्रयास किया गया तो यह कार्यवाही अपने आप में देश पूर्ण एवं षड्यंत्र पूर्वक की गई कार्रवाई प्रीत होती है मामले की जांच हो रही है कान में कानून में मेरा पूरा विश्वास है लोकायुक्त के अधिकारियों पर विश्वास है निश्चित रूप से नया खून जांच होगी मुझे भरोसा है मुझे न्याय मिलेगा लेकिन अपराधियों आज फिर कानून का सिपाही हार गया

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *