वोट नहीं दिया तो 327 लोगों को अपात्र बताकर कटवा दिया पेंशन और राशन की सूची से नाम

वोट नहीं दिया तो 327 लोगों को अपात्र बताकर कटवा दिया पेंशन और राशन की सूची से नाम

327लोगो को एक साथ अपात्र बताकर काटवा दिया पेशन और राशन की सूची से नाम

*जनपद पंचायत सीधी के जोगी पुर दक्षिण पंचायत का मामला*

मध्य प्रदेश जिला सीधी पंचायती चुनाव मैं मिली शिकस्त का बदलना गांव के लोगों का पेंशन और राशन बंद करा कर लिया जाने लगा है अपने पूर्व के कार्यकाल के समय का प्रस्ताव बनाकर जनपद और प्रशासन के अधिकारियों को भेज कर पात्र हितग्राहियों का नाम भी सोची से बिलोपित करा दिया है बेचारे गरीबों को अनाज तक के लिए लाले पड़ गए हैं ।
सामाजिक सुरक्षा पेंशन और अन्नपूर्णा योजना सहित गरीबी रेखा अति गरीबी रेखा की सूची में जोड़ें पात्र हितग्राहियों को अपना हक पाने के लिए पंचायती पदाधिकारियों से लेकर जिला प्रशासन के चौखट तक में माथा रगड़ना पड़ रहा है।
इसके बावजूद चुनावी रंजिश के कारण काटे गए इन नामों को जुड़ा जाना संभव दिखाई नहीं देता जबकि पीड़ितों ने प्रदेश के पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री तक से अपनी गुहार लगा चुके हैं लेकिन विलोपित हुए नामों को सूचियों में जोड़कर शासन द्वारा दी जा रही पेंशन और अनाज के सुविधा बहाल नहीं हो पा रही है।
ग्रामीणों की माने तो बीते वर्ष हुए चुनाव के दौरान पूर्व सरपंच को गांव की जनता ने बदले की भावना रखने वाले और गांव का विकास ना करने विकासवादी सोच नहीं होने के कारण जनता ने नकार दिया जिससे रुष्ट होकर पंचायत के सरपंच सचिव उन लोगों का चिन्हाकन करना शुरू कर दिया।
जिन्होंने सरपंच को अपना मत देकर दोबारा सरपंच के पद पर निर्वाचित नहीं किया तो प्रभार देने कि पहले प्रस्ताव बनाकर उन लोगों को अपात्र घोषित कर दिया जिनके घर पेंसन और राशन के बदौलत चलते रहे मामले की जानकारी देते हुए हरीश कुमार सहित पुष्पा वर्मा मंगलेश्वर वर्मा मुन्नी साकेत श्यामसुंदर कोल राम सजीवन साहू रामप्रसाद सोदिया प्रेमवती कोल नारायणदास जोगी राम प्रसाद कोरी जग्यभान कोल सहीत 327 लोगों ने नाम काटे जाने की स्थिति है जिसके शिकायत जनपद सहित जिला पंचायत और अनुविभागीय अधिकारी गोपद बनास से की गई है लेकिन शिकायत के 3 माह बीतने के बावजूद पीड़ितों को राहत नहीं मिली है।
आडियो हुआ वायरल जनपद पंचायत सीधी के ग्राम पंचायत जोगीपुर एक गरीब लोगों के नाम काटे जाने और जोड़े जाने का ऑडियो भी वायरल हो रहा है जिसमें वर्तमान सचिव से बात हो रही है उन्होंने अपने बयान में यह खुलासा किया है कि पूर्व सचिव ने सरपंच के कहने पर सभी लोगों के नाम पेंशन सूची और गरीबी रेखा की सूची से काटे जाने का प्रस्ताव भेजा था उसी प्रस्ताव के आधार पर सबके नाम काट दिए गए।
अब बेचारे वृद्ध लोगों को अनाज के लिए दर-दर की ठोकरें खानी पड़ रहे। सचिव का बंद हो गया फोन ग्राम पंचायत जोगीपुर के हरिजन आदिवासियों और गरीब तबके के लोगों के लोन पेंशन और राशन से जानबूझकर काटे जाने के संबंध में जब ग्राम पंचायत के बर्तमान सचिव से काटे गए नामों के संबंध में चर्चा करने की कोशिश की गई तो उन्होंने अपना फोन बंद कर लिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *