सीधी सिटी कोतवाली की निष्क्रियता से सीधी शहर हुआ असुरक्षित- मजिस्ट्रेट के घर चोरों ने किया हांथ साफ

सीधी सिटी कोतवाली की निष्क्रियता से सीधी शहर हुआ असुरक्षित- मजिस्ट्रेट के घर चोरों ने किया हांथ साफ

क्या सीधी सिटी कोतवाली निरीक्षक की निष्क्रियता के कारण चोरों के हौसले हो रहे बुलंद…?

क्या सीधी सिटी कोतवाली निरीक्षक सीधी शहर को सुरक्षित रख पाने में असमर्थ हैं…

मध्य प्रदेश जिला सीधी जी हां हम बात कर रहे हैं बीती रात की घटना, सीधी शहर में पुलिस का चौतरफा पहरा है, चप्पे-चप्पे पर पुलिस तैनात है इसके वावजूद भी अपराधियों के हौसले कुछ इस कदर बुलन्द हैं कि न्यायिक मजिस्ट्रेट के सरकारी आवास में हुई चोरी सिटी कोतवाली सीधी पुलिस की कलाई खोल कर रख दी है। जिला न्यायालय में पदस्थ न्यायिक मजिस्ट्रेट विवेक कुमार सिंह के सरकारी आवास में गुरुबार की रात हुई चोरी के चलते जिले में चर्चा का विषय बना हुआ है, क्योंकि मजिस्ट्रेट साहब के यहाँ हुई चोरी में कोई बड़ी रकम या आभूषण की चोरी नहीं हुई है, बल्कि सिर्फ पाँच रोटी और 19 सौ रुपये ही चोर चुरा ले गये है, सूचना के बाद हरकत में आई पुलिस मौके पर पहुँच कर जाँच में जुटी है, लेकिन अब तक चोर पुलिस के गिरफ्त से बाहर है। बताया जा रहा है कि चोर घर के पीछे खिडकी की जाली काटकर किचन में दाखिल हुआ वहाँ रखी रोटियों को चुराया जिसके बाद समीप ही रखे सामग्रियों को बिखेर दिया, वहीं साहब का पैंट दीवार में टंगा था जिससे 19 सौ रुपये चोर ने चोरी कर घटना स्थल से रफूचक्कर हो गया, जब मामले की शिकायत पुलिस को दी गयी तो सिटी कोतवाली पुलिस ने मामला पंजीबद्ध करते हुए आनन-फानन में अंधेरे में तीर मारना शुरू कर दिया अब तक पुलिस ने खोजी कुत्ते के सहारे चोरों की शिनाख्त करने में जुटी है। जबकि जिले में चोरी की दर्जनों ऐसे प्रकरण लंबित पड़े है जिसका खुलासा आज दिन तक नही हो सका है और फाइले धूल खाक रही हैं किंतु सिटी कोतवाली पुलिस उन प्रकरणों में आज तक किसी प्रकार का खुलासा करने की जहमत नहीं उठा रही है। अब देखना यह होगा कि मजिस्ट्रेट के यहां हुई चोरी का खुलासा कब तक हो सकेगा। आपको बताते चलें सीधी सिटी कोतवाली में जब से शेषमणि पटेल निरीक्षक के रूप में पदभार ग्रहण किया था उसी समय से चोरों के हौसले बुलंद होते दिखाई दे रहे हैं ऐसे में सिटी कोतवाली पुलिस पर बड़ा सवाल उठना कोई नया कारनामा नहीं होगा ऐसे कई मामले सिटी कोतवाली सीधी के आ चुके हैं जब न्यायपालिका में मजिस्ट्रेट का घर सुरक्षित नहीं है तो आम जनता कैसे सुरक्षित होगी यह बड़ा प्रश्न है ऐसी में जिले के पुलिस विभाग के बड़े अधिकारियों को संज्ञान लेना चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *