सूर्य ग्रहण २१ जून २०२० प्रभाव व उपाय जानने के लिए देखें स्वतंत्र इंडिया लाइव सेवन पर

सूर्य ग्रहण २१ जून २०२० प्रभाव व उपाय जानने के लिए देखें स्वतंत्र इंडिया लाइव सेवन पर

==========================
२१ जून का साल का पहला सूर्य
ग्रहण पड़ रहा है। जो कि आषाढ़
महीने कीअमावस्या को रहेगा। ये
ग्रहण पूरे भारत में दिखाई देगा। यह
ग्रहण वलयकार होगा, जिसे अंग्रेजी में
“रिंग ऑफ फायर” कहा जाता है। यह
पूर्ण सूर्य ग्रहण से थोड़ा अलग होता
है।

हमारे देश में दिखाई देने के कारण इस
ग्रहण का सूतक माना जाएगा। २१
जून को पड़ने वाले इस ग्रहण का
असर न केवल हमारे देश बल्कि भारत
सहित पड़ोसी देशों में तीव्रता से
दिखाई देने के साथ ही विश्व के अन्य
देशों पर भी दिखाई देगा।

ये ग्रहण मृगशिरा नक्षत्र में मिथुन राशि
पर होगा। इसका आरम्भ सुबह
लगभग १० बजकर ३२ मिनट पर
होगा, इसका मध्यकाल दोपहर १२
बजकर १८ मिनट पर होगा एवं
इसका मोक्ष दोपहर ०२ बजकर ०२
मिनट पर होगा। ग्रहण की पूरी अवधि
लगभग साढ़े ०३ घंटे की रहेगी। सूतक
२० जून को रात लगभग १०:१० से
ही शुरू हो जाएगा ।सूतक काल में
बालक, वृद्ध एवं रोगी को छोड़कर
अन्य किसी को भोजन नहीं करना
चाहिए। इस दौरान खाद्य पदार्थो में
तुलसी दल या कुशा रखनी चाहिए।
गर्भवती महिलाओं को खासतौर से
सावधानी रखनी चाहिए। ग्रहण काल
में निद्रा और भोजन नहीं करना
चाहिए। सुई धागा का प्रयोग चाकू,
छुरी से सब्जी,फल आदि काटना भी
निषिद्ध माना गया है।

सूतक काल में कोई भी शुभ काम नहीं
किया जाता है। ग्रंथों के अनुसार
सूतक काल में कर्मकांडी पूजा पाठ
और मूर्ति स्पर्श वर्जित होता है। इस
दौरान कोई शुभ काम शुरू करना
अच्छा नहीं माना जाता। केवल स्नान,
दान, मन्त्र जाप, श्राद्ध और मन्त्र
साधना के लिए ग्रहण काल उपयुक्त
होता है। ग्रहण काल में इनका फल
अनेकों गुना होता है।

ग्रहण का फल
===========
इस सूर्य ग्रहण का अशुभ असर ०८
राशियों पर रहेगा और ०४ राशि वाले
लोग ग्रहण के बुरे प्रभाव से बच
जाएंगे।

मेष, सिंह, कन्या और मकर राशि
वालों पर ग्रहण अशुभ प्रभाव नहीं
रहेगा।

जबकि वृष, मिथुन, कर्क, तुला,
वृश्चिक, धनु, कुंभ और मीन राशि वाले
लोगों को सावधान रहना होगा।
इसमें वृश्चिक राशि वालों को विशेष
ध्यान रखना होगा।

यह ग्रहण रविवार को होने से और भी
प्रभावी हो गया है। इस ग्रहण के
अशुभ प्रभाव से अतिवृष्टि ओला बाढ़
तूफान और भूकम्प जैसी प्राकृतिक
आपदाएं भी आ सकती हैं।

वर्तमान वैश्विक महामारी कोरोना के
लिए ये ग्रहण संक्रमण के फैलाव का
प्रबल संकेत दे रहा है। आने वाले छह
माह में न केवल कोरोना संक्रमण
बहुत तेजी से फैलेगा बल्कि मृत्युदर में
भी बहुत वृद्धि होगी।

सूर्य क्योंकि पालनकर्ता और पिता हैं,
अतः लोगों की आजीविका को खतरा
पैदा होगा।

भरण पोषण के साधन अर्थात
खाद्यान्न में कमी आएगी अनाज सब्जी
महंगे होंगे। खाने की वस्तुओं की
कालाबाजारी होगी।

राजा अर्थात सरकारी कर्मचारी और
जनप्रतिनिधि कमजोर पड़ेंगे। ये लोग
अपनी असमर्थता के कारण अपयश
पाएंगे।

न्याय कमजोर पड़ेगा। न्याय प्रक्रिया में
दया सहिष्णुता की कमी आएगी।
अतः कठोर दंडविधान अमल में
अधिक आएंगे। न्याय में भी कुछ
अन्याय शामिल होगा।

घर के मुखिया या पालनकर्ता के लिए
संकट की स्थितियां बन सकती हैं।

*उपाय*
=======
इस सूर्य ग्रहण के दौरान स्नान, दान
और मंत्र जाप श्राद्ध करना विशेष
फलदायी रहेगा। ये स्मरण रहे केवल
सनातन धर्म में ही आपदा को अवसर
में बदलने की तकनीकें मिलती हैं जैसे
सागर में ऊंची लहरें एक सर्फर के
लिए सर्फिंग का अवसर होती है।
होली दीवाली और अमावस पूर्णिमा
पर पड़ने वाले व्रत त्यौहार इसका
उदाहरण हैं। जिन आठ राशि वाले
व्यक्तियों के लिए यह कष्टप्रद है वे
ग्रहण से सम्बंधित निर्देशों का पालन
करें। ग्रहणकाल में नदी तट, गौशाला,
देवालय या अपने घर के किसी साफ
व शांत स्थान में बैठकर रामरक्षा
स्त्रोत, गायत्री मंत्र या महामृत्युंजय मंत्र
का पाठ करें। आदित्य हृदय स्त्रोत का
पाठ करें। जितनी बार हो सके उतनी
बार पाठ करें या संख्या का संकल्प
लेकर राम नाम के मन्त्र का जप करें
जी हाँ राम नाम सिर्फ नाम नहीं मन्त्र
है और इसलिए कहते हैं राम से बड़ा
राम का नाम है। श्री राम जय राम जय
जय राम का मंत्र का चलते फिरते
उठते बैठते मानसिक, वाचिक जप
करते रहें।

यदि आपका साधना मार्ग है आप
साधक हैं तब भी ग्रहण काल सिद्धि
प्राप्ति के लिए एक अच्छा अवसर
होता है।

ग्रहण पर सबको राम नाम का अमोघ
रामबाण मंत्र जाप करना चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *